Tuesday, November 16, 2010

कृष्णा गौर से जुड़ी खबरें हिन्दी और अंगे्रजी में

-------------
27/11/2009
Its clearly advantage for the BJP from the beginning. Krishna Gaur appears a strong candidate compared to Congress' Abha Singh, whose name was announced after much deliberations. In the end, Suresh Pachouri's writ prevailed. BJP candidate Krishna Gaur who is former Chief Minister Babulal Gaur's daughter-in-law has long been in the public domain, and is a familiar face in Bhopal. Abha Singh is the wife of an Indian Police Service (IPS) officer. She says that her father Thakur Balram Singh was not just the Mayor in Bilaspur but was also elected as an MLA. The Congress candidate said that she was in politics for a long time and was in the legal cell of the state congress. Though it will be foolish to call her light- weight, the truth is that a much stronger candidate was expected from the Congress. MPNEWSFLASH
-------------------------
If Krishna Gaur has become the Mayor of Bhopal, the BJP should thank Congress for putting up a little-known candidate Abha Singh against her.

18/12/2009

The voters were unhappy with BJP, which was evident because nearly 40 Congress corporators won compared to 27 wards where BJP won in Bhopal. Even then Congress' Abha Singh lost by 15,000 votes.

A stronger candidate would have easily tilted the balance in favour of Congress. But State Congress chief Suresh Pachouri gave ticket to Singh despite knowing that she was not a well-known face in Bhopal and the Thakur votes are not substanital. Her rival Krishna Gaur got the benefit of being Babulal Gaur's daughter-in-law.

BJP's candidates won in Mayor elections in other important cities also. In municipal corporations, BJP won seven including Indore, Gwalior and Jabalpur while Congress and BSP won two each. In municipal councils and municipalities, the Congress comparatively fared better.

In Sagar, a eunuch Kamla Bua won as an independent. In Indore BJP's Krishna Murari Moghe defeated Congress' Pankaj Singhvi. In Khandwa and Burhanpur also the BJP won the election. But most importantly for the BJP, it has a Mayor in Bhopal after ten years of Congress Mayors.
--------------
Dec 17th, 2009
नगर सरकार को बनाएंगे दमदार
भोपाल. भोपाल की नव निर्वाचित महापौर कृष्णा गौर की महापौर परिषद (एमआईसी) को लेकर कयासबाजी लगाई जाने लगी है। इसमें महिलाओं का प्रतिनिधित्व ज्यादा से ज्यादा 40 फीसदी होने के आसार हैं, जिसमें निर्दलीय प्रत्याशी ईश्वरी नाथानी को शामिल किए जाने की संभावना भी है।
नगर निगम की महापौर परिषद निगम परिषद का सबसे सशक्त समूह होता है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि एमआईसी में कम से कम दो बार के पार्षदों को लिए जाने की नीति बनाई जा रही है। इस दायरे में चौथी बार पार्षद चुने गए अशोक पांडे के अलावा चंद्रमुखी यादव, आशा जैन, ममता तिवारी, सुरजीत सिंह चौहान, महेश मकवाना, कृष्णमोहन सोनी, विष्णु राठौर, आशाराम शर्मा, नारायण सिंह पाल और पंकज चौकसे के नाम प्रमुख हैं।
गौरतलब है कि महापौर परिषद को 25 लाख रुपए तक के प्रस्तावों पर निर्णय लेने का अधिकार होता है। एमआईसी महापौर का अपना मंत्रिमंडल होता है, जिसे शहर की सरकार का मंत्रिमंडल भी कहा जा सकता है। राज्य सरकार ने नगर निगम वार्डो के आरक्षण में महिलाओं को 50 फीसदी स्थान दिया है, मगर परिषद में नव निर्वाचित निर्दलीय पार्षदों को शामिल करने के बाद वरिष्ठ महिला पार्षद बमुश्किल चार हो पा रही हैं।
निगम अध्यक्ष के लिए कैलाश मिश्रा, सगीर के नाम: नगर निगम चुनाव परिणामों के बाद परिषद पर कांग्रेस के कब्जे के साथ ही निगम अध्यक्ष पद को लेकर भी कवायद शुरू हो गई है। कांग्रेस में पचौरी समर्थक वार्ड 6 के पार्षद कैलाश मिश्रा का नाम अभी सबसे ऊपर है।
दूसरी तरफ निगम में चुनकर पहुंचे 16 मुस्लिम पार्षदों को आधार बनाकर इन कांग्रेस पार्षदों ने उनमें से ही किसी एक को अध्यक्ष बनाने की मांग उठाना शुरू कर दी है। इसके लिए वार्ड 42 के पार्षद मोहम्मद सगीर का नाम प्रमुख रूप से लिया जा रहा है। इनके अलावा माहिरा सलामुद्दीन, अब्दुल शफीक, रेहान अहमद के नाम भी चर्चा में है।
परिषद बैठक अगले सप्ताह संभव
नगर निगम चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद अब नई परिषद के गठन की अधिसूचना का इंतजार किया जा रहा है। अधिसूचना के प्रकाशन के बाद अगले सप्ताह भोपाल नगर निगम परिषद की बैठक होने की संभावना व्यक्त की जा रही है। सूत्रों के मुताबिक राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा सभी नगरीय निकायों के परिणाम आने के बाद उनके गठन की अधिसूचना का प्रकाशन किया जाएगा। सबसे पहले महापौर संबंधी अधिसूचना जारी होगी जिसके 18-19 दिसंबर को प्रकाशित होने की संभावना है।
सूत्र बताते हैं कि भोपाल नगर निगम की बैठक महापौर की अधिसूचना के प्रकाशन के बाद अगले सप्ताह हो जाएगी। नवनिर्वाचित परिषद की पहली बैठक का आयोजन कलेक्टर द्वारा किया जाएगा और वे ही इसकी अध्यक्षता करेंगे। कलेक्टर ही नवनिर्वाचित महापौर को शपथ दिलाएंगे। वे ही परिषद के अध्यक्ष का निर्वाचन कराएंगे और आवश्यक हुआ तो इसके लिए मतदान भी कराया जा सकता है

No comments:

Post a Comment